कियोस्क संचालक से 45 लाख की लूट, लुटेरों ने एटीएम में पैसे फंसने का झांसा देकर बुलाया, बंधक बनाकर दिया घटना को अंजाम


सह.सम्पादक अतुल जैन की रिपोर्ट

शिवपुरी। जिले के बदरवास में कियोस्क संचालक विजय सिंघल के घर से तीन हथियारबंद बदमाश 45 लाख रुपए लूट ले गए। बदमाशों ने विजय की कनपटी पर कट्‌टा अड़ा दिया। इसके बाद पत्नी और बच्चों के मुंह पर टेप लगाकर दोनों हाथ बांध दिए। इसके बाद बदमाशों ने कट्टे की नोंक पर अलमारी की चाबियां हासिल कर वहां से 45 लाख रुपए नकद ले गए।
विजय सिंघल का घर हाइवे पर स्थित है। घर के नीचे की दुकान में प्राइवेट कंपनी का एटीएम लगा है। इसका संचालन वह खुद ही करता है। इसके अलावा वह कियोस्क संचालक भी है। जिस दुकान में एटीएम लगा है, वहीं से घर में अंदर जाने का रास्ता भी है। रात करीब 10 बजे उसके पास फोन आया। कॉलर ने कहा कि एटीएम में पैसे फंस गए हैं। मदद के लिए नीचे आ जाओ। वह खाना खा कर गया।
जैसे ही, दरवाजा खोला तीन नकाबपोश लोगों ने उसे पकड़ लिया। इसके बाद कनपटी पर कट्‌टा अड़ाकर ऊपर ले गए। घर में मौजूद पत्नी पूजा और दो बच्चों हार्दिक और युग के मुंह पर टेप लगा दिया। इसके बाद सभी के हाथ भी बांध दिए। उन्होंने मारपीट कर अलमारी की चाबी ले ली। अलमारी में रखे पैसे लेकर फरार हो गए।

मंकी कैप पहने थे तीनों बदमाश

विजय के मुताबिक बदमाश मंकी कैप पहने थे। इसके अलावा मास्क भी लगाया हुआ था। ऐसे में वह किसी को भी नहीं पहचान पाए। तीन में से दो के पास कट्टे थे। चारों को उसी हालत में छोड़कर बदमाश भाग गए। विजय के बेटे युग के हाथों और चेहरे का टेप ढीला हो गया। उसने किसी तरह पिता विजय के हाथ का टेप निकाला। इसके बाद सभी ने एक-दूसरे को मुक्त कराया। इसके बाद मामले की जानकारी पुलिस को दी। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची।

इसलिए घर में था इतना कैश

विजय सिंघल कियोस्क का संचालन करता है, इसलिए उसके पास रोजाना नकदी आना-जाना रहता है। वहीं, एटीएम में कैश डालने का काम भी वही करता है। इस कारण घर में अधिकतर कैश रहता है। बताया जा रहा है कि विजय किसी प्लॉट का भी सौदा कर रहा था। इस कारण उसने पैसे इकट्‌ठे किए थे। साथ ही, गुरुवार को ही उसने बैंक से 5 लाख रुपए निकाले थे।

सीसीटीवी की निकाल ले गए हार्ड डिस्क

बदमाश लूट की वारदात को अंजाम देने के लिए प्लानिंग के साथ आए थे। उन्हें इसकी भी जानकारी थी कि घर में सीसीटीवी लगा है। यही कारण रहा कि वह उनकी पहचान का एक मात्र सबूत सीसीटीवी के हार्डडिस्क भी निकाल ले गए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.