कब जागेगा व्यक्ति में दायित्व का बोध ?


अधिकारों की आंच में बेदम होता दायित्व, उम्मीद ही एकमात्र सहारा

  आज हम हर तरफ देखते है कि हर कोई व्यक्ति अपनी आमदनी और औकात बढ़ाने में लगा है । हर कोई व्यक्ति अपनी शक्ति और सामर्थ्य से अधिक से अधिक अधिकारों का सेवन करने में लगा है । जिसके सहारे वह अधिकांश मामलों में धन-दौलत, सत्ता-शक्ति, वैभव-शौहरत आदि-आदि को प्राप्त करना चाहता है । ऐसा भी नहीं है कि इस दिखावे और भोगवादी दौर में ईमानदार व दायित्व-बोध वाले व्यक्ति नहीं है । लेकिन ऐसे दायित्व-बोध वाले लोगों की संख्या दिनों-दिन घटती जा रही है तथा वर्तमान की अंधी-दौड़ में ना तो उनकी छवि जन तक पहुंच रही है और न हीं उनकी प्रेरणादायी व प्रभावी वाणी । दायित्व-बोध से कोसों दूर हो रहे इस दौर में हर कोई अधिक से अधिक सुख-सुविधा, ऐशो-आराम, बेहिसाब सम्पति की चाह रखता है और वह अंधा होकर उस पूर्ति में दिन-रात लगा रहता है ।

  अब ऐसा लगा रहा है कि समाज में हर प्रकार की व्यवस्था में ईमानदारी, सच्चाई, दायित्व, निष्ठा जैसे आदर्श धीरे-धीरे घटते जा रहे । हमारे राजनीति, प्रशासन, शिक्षा, चिकित्सा सहित तमाम व्यवस्थाओं और महकमों में लगे एवं पहुंचे लोग स्वयं को सुरक्षित मान अपने दायित्वों को भूलते जा रहे हैं तथा अपने पद व रसूख के सहारे चांदी कूटने में लगे हैं । भ्रष्टाचार, बेईमानी, धोखाधड़ी जैसे शब्द आज हमारे जीवन में आम होते जा रहे हैं । राजनीति में लोकतंत्र के सहारे जनता द्वारा जनता के लिए चुने गए नुमाइंदे तो ऐसा लगता है कि वे अपने दायित्व-बोध को भूल ही चुके हैं । अंधा बांटे रेवड़ी फिर फिर अपनों को दे, जिसकी लाठी उसकी भैंस जैसे मुहावरों को रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बनाते जा रहे हैं । वर्तमान में अधिकारों की आंच में दायित्व सच में बेदम होता जा रहा है । हर तरफ मात्र अधिकारों को लेकर लड़ाई-झगड़ा, दंगा-फसाद है । ठीक इसके उल्ट देखे तो दायित्व को लेकर आज दिन तक एक भी झण्डा हवा में नही लहराया । सबको अधिकारों की पड़ी है । दायित्व से किसी को कोई लेन-देन नही है ।

  अब शायद यही लगता है कि अपने दायित्व को अपना लक्ष्य बनाने वाले व्यक्ति कम होते जा रहे हैं या यूं कहें कि दायित्व-बोध वाला दौर हम से काफी दूर जा चुका है । लेकिन इस बात की उम्मीद भी बेमानी नहीं होगी कि हम सब में अपनी-अपनी स्थिति एवं व्यवस्थाओं के अनुरूप कभी ना कभी दायित्व का बोध होगा तथा पुनः वह स्वर्णिम दौर लौटेगा जिसमें हम सब भ्रष्टतंत्र से दूर होकर आजादी के दीवानों व सेनानियों की कल्पना के अनुरूप जन-जन का भला कर सकेंगे तथा स्वयं को हर आईने में बेझिझक देख सकेंगे । हम सब में फिर से अधिकारों के उस पार दायित्व का बोध जगेगा और हम दायित्ववान बनेंगें । यही एकमात्र उम्मीद सुनहरे सवेरा की सुनहरी किरण है ।

मुकेश बोहरा अमन
साहित्यकार वं सामाजिक कार्यकर्ता
बाड़मेर राजस्थान



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.