महावीर युग परिवर्तक


महावीर युग परिवर्तक
वर्तमान की जरूरत ::::::
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की तेरस के दिन प्रतिवर्ष विश्व में महावीर जयंती मनाई जाती है।
महावीर स्वामी  विश्व को कुछ सिद्धांतो के द्वारा
इस जीवन को  जीना सिखाते हैं ..
अहिंसा सबसे बड़ी और आखिरी वीरता है .
हिंसा बड़ी वीरता नहीं है , दूसरों को मारने की तैयारी
या भाव इस बात की घोषणा है कि कहीं मैं न मार डाला जाऊं ? कोई मुझे मार दे उसके पहले मैं उसे मार दूं ,यह हिंसा कायरता है ,इसलिए महावीर स्वामी ने अहिंसा को सबसे बड़ी वीरता बताया ….
वर्तमान में विश्व का हर देश हिंसा से ही प्रताड़ित है ।।
श्री महावीर स्वामी ने अपने अपने अंदर में जाने के मार्ग को श्रेष्ठतम बताया क्योंकि अपनी आत्मा ही सबसे श्रेष्ठ है सत्य है सुंदर है उसे आप बाहर से नहीं पा सकते . इस तरह उन्होंने एक दूसरे से जलन ईर्ष्या बेवजह प्रतिस्पर्धा के भाव को तिरोहित कर दिया . आत्म उन्नति में ही जग उन्नति है यह समझना जरूरी है …….
जैन धर्म के युग प्रवर्तक महावीर का जन्म 599 ईस्वी पूर्व वैशाली के अंतर्गत कुंड ग्राम में हुआ था .. माता पिता * क्षत्रिय राजा सिद्धार्थ  और महारानी त्रिशला ने बालपन से ही राजोचित शिक्षा और संस्कार दिए ।
परंतु युवावस्था तक आते आते महावीर को जीवन संबंधी अनेक प्रश्नों के लिए सन्यास और कठोर तपस्या ही साधन प्रतीत हुआ .. उसके लिए उन्होंने संसार की सभी वस्तुएं यहां तक कि अपने शरीर के वस्त्र भी त्याग कर बारह वर्षों तक कठिन तप कर अंतर की यात्रा की।। इसीलिए जैन निर्ग्रंथ अनुयाई कहलाए । महावीर ने  भारत भरण कर धर्म का प्रचार तीस वर्षों तक किया और 72 की आयु में पावापुर में केवल ज्ञान प्राप्त कर मोक्ष गए.
उन्होंने कुछ मूल सिद्धांतों के जरिए धर्म को परिभाषित किया
1 अनीश्वरवाद
2 अनेकत्मवाद
3 अनेकांतवाद
3 कर्म की प्रधानता
4 निर्वाण ही अंतिम उद्देश्य
इसके साथ ही महावीर स्वामी ने बताया कि हर इंसान को कुछ मूल गुणों का पालन करना चाहिए जैसे::::
“””अहिंसा सत्य अस्तेय ब्रह्मचर्य अपरिग्रह “”
इनके पालन से  देश में नागरिक सदाचार से जीवन जीकर  इस संसार में आनंद शांति और आत्मिक सुकून की अनुभूति प्राप्त  कर सकते है ।।
और इस संसार को पार कर मोक्ष की यात्रा को सुगम बना सकते है ,
महावीर के सिद्धांत को अपना कर हम अपने देश को धार्मिक सामाजिक राजनैतिक
वैज्ञानिक सभी स्तर पर ऊंचाई तक पहुंचा कर विश्व गुरु बना सकते हैं ।।।।

नीना जैन लाइफ कोच दूरदर्शन एंकर  



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.