बरसाती नाला बन गया गटर, सीवरेज जैसा गंदा पानी गुसा क्षेत्र वासियों के बोरवेल और के पानी के टैंक में


हे UIT के भ्रष्ट कर्णधारों , हे भ्रस्टाचार के असुरों , आपने कुछ वर्षों पहले तालाब से आने वाले बरसाती पानी के निकास के लिये लाखो खर्च कर शोभागपुरा और न्यू भूपालपुरा क्षेत्र से निकलता हुआ अत्यंत घटिया और तकनीकी खामी युक्त नाला बनवाया, ठेकेदार ने पत्थरो की चुनाई में नाम मात्र का सीमेंट लगाया और प्लास्टर भी दिखावटी कर भुगतान ले लिया। ठेकेदार का कहना था कि 22 प्रतिशत अंदर देता हूँ तो कमाऊंगा क्या ?
अब यही घटिया नाला बरसाती नाले की जगह गटर बन चुका है, मिराज कॉम्प्लेक्स वालो और IVF अस्पताल वाले ने उनके गंदे मल मूत्र और अपशिष्ट युक्त गंदे पानी के निकास को इस बरसाती नाले से जोड़ दिया है यह नाला कई वर्षों से न तो साफ हुआ है और न ही कभी इसकी मरम्मत की गई है, यह नाला जगह जगह अवरुद्ध है साथ ही जानलेवा डेंगू मलेरिया के मच्छर भी इसमें पनप रहे है। इस नाले से अत्यंत तेज दुर्गंध निकलती है कि सांस लेना भी कठिन हो जाता है।
अभी कुछ दिन पूर्व इस नाले के जानलेवा बैक्टीरिया / वायरस से कॉलोनी के नरेंद्र जैन संक्रमित हो गंभीर बीमार हो गए जिन्हें उपचार हेतु अहमदाबाद ले जाना पड़ा।
समस्या यही खत्म नही होती ,इस नाले का पानी क्षेत्र में रहने वाली एडवोकेट के बोरवेल और एक अन्य अनिल व्यास के भूमिगत पानी के टैंक को भी संक्रमित कर चुका है।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

इस नाले के लीक होने से मकानों की नींव भी खराब हो रही है, मकान बैठक ले रहे है, कई मकानों की फर्श भी बैठ चुकी है
UIT के जिम्मेदारों को न तो किसी के स्वास्थ्य की परवाह है और न किसी के जीवन की, और न ही कोई मानवीय मूल्य दिखाई दे रहा क्योंकि कई शिकायतों और व्यक्तिगत संपर्कों के बाद भी UIT वालो ने कोई तत्परता नहीी दिखाई है , यदि किसी भु माफिया से जुड़ा कार्य होता तो शायद हो गया होता।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.