नवकार महोत्सव 2022 : नवकार उपाधि अलंकरण की तीसरी सूची जारी


आचार्यश्री, साध्वी भगवंत के साथ पद्मश्री व स्वास्थ्य कर्मी एवं समाजसेवी तीसरी सूची में शामिल

इंदौर / उज्जैन / कोलकाता : नवकार महोत्सव 2022 के तहत आयोजित होने वाले नवकार उपाधि अलंकरण सीजन 4 के लिए आयोजक वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवी विनायक अशोक लुनिया ने तीसरी सूची जारी कर दी है श्री लुनिया ने सूची जारी करते हुए बताया 30 जुलाई से 18 अक्टूबर 2022 तक आयोजित होने वाले 81 दिवसीय नवकार महोत्सव में कि 4 मुख्य श्रेणियों में 162 उपाधि अलंकरण होना है जिसमे जिसके संबंध में आज जैन समाज के साथ ही समस्त मानव कल्याण के क्षेत्र में कार्य करने वाले जैन संतो के साथ पद्मश्री, वैकल्पिक चिकित्सा कर्मी, साहित्यकार, पत्रकार व समाजसेवी को सम्मिलित किया गया है।
ज्ञातव्य रहे कि नवकार उपाधि अलंकरण की स्थापना वर्ष 2016 में विश्वविख्यात उज्जैन नगरी के महावीर तपोभूमि में संस्थापक स्वर्गीय श्री अशोक जी लुनिया साहब के द्वारा जैन समाज को एक मंच पर लाने एवं अहिंसा का विस्तृत प्रचार के उद्देश्य से किया गया था। जो कि अब तक देश विदेश के 150 से अधिक समाजसेवियों, गुरुभगवंतों, सामाजिक संस्थानों के साथ राजनेताओं, मुख्यमंत्री व मंत्रीगणों को उपाधि अलंकृत कर चुका है, और आज सीजन 4 का भव्य आयोजन किया जा रहा है जहां 81 दिन में 162 समाजसेवियों, गुरु भगवंत, सामाजिक संस्थाओं के साथ राजनेता, मंत्री व मुख्यमंत्री को सम्मानित किया जाएगा।
प्रति सम्मानीय महानुभाव को नवकार महोत्सव 2022 के तहत 30 मिनिट के इंटरव्यू में जीवन यात्रा पर प्रकाश डाला जाएगा।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त अब इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें Sachcha Dost News https://sachchadost.in/english सच्चा दोस्त बातम्या https://sachchadost.in/marathi/ సచ్చా దోస్త్ వార్తలు https://sachchadost.in/telugu/ સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર https://sachchadost.in/gujarati/ সাচ্চা দোস্ত নিউজ https://sachchadost.in/bangla/ ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ https://sachchadost.in/punjabi/

पैसो के लेन – देन वाला सम्मान नही, वास्तविक डिज़र्व करने वाले महानुभव का सम्मान है
श्री लुनिया ने कहा कि उक्त सम्मान वास्तव में कार्य करने वाले व सम्मान डिज़र्व करने वाले महानुभव को किया जा रहा है जहां किसी प्रकार से सम्मान के बदले पैसो का लेन देन या कोई पारसलिटी रहित सम्मान है।

इस प्रकार है तीसरी सूची

नवकार गुरुरत्न – परम पूज्य आचार्य श्री सुधा सागर जी महाराज (धर्म प्रभावना एवं धर्म के प्रति जनजागृति)

नवकार गुरुरत्न – परम पूज्य आचार्य श्री प्रज्ञा सागर जी महाराज (मानवसेवा, जीवदया, सामाजिक एकता के क्षेत्र में सक्रिय)

नवकार गुरु कर्मयोगी रत्न –
परम पूज्य श्री योग भूषण जी महाराज (योग आध्यात्म के प्रचार – प्रसार के माध्यम से जन जागृति)

नवकार गुरु कर्मयोगी रत्न –
परम पूज्य श्री पारस मुनि जी महाराज (धर्म एवं अहिंसा प्रचारक)

नवकार गुरु कर्मयोगी रत्न –
शेरे राजस्थान परम पूज्य श्री रूपचंद मुनि जी महाराज (धर्म एवं अहिंसा प्रचारक)

नवकार साध्वी रत्न – परम पूज्य माताजी श्री सृष्टि भूषण जी महाराज (सृष्टि भूषण कैंसर ट्रस्ट के संचालन)

नवकार रत्न – पद्मश्री डॉ विजय शाह सांगली, महाराष्ट्र (लंबे समय तक प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्रालय, राष्ट्रपति के दंत चिकित्सज्ञ के रूप में सेवारत, जैन समाज को एक सूत्र में बाँधने के सराहनीय प्रयास, 83 वर्ष के उम्र में भी सामाजिक सेवा के क्षेत्र समर्पण भाव के साथ विशेष रूप से सक्रिय)

नवकार धर्म योद्धा – ललित शक्ति, मुम्बई, महाराष्ट्र (समाजसेवा, जीवदया, संत सुरक्षा के साथ पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय)

नवकार धर्म योद्धा – शिखर चंद जैन, छिंदवाड़ा (सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय)

नवकार धर्म रक्षक – उत्सव जैन, बांसवाड़ा, राजस्थान (साहित्य एवं सामाजिक क्षेत्र में विशेष योगदान)

नवकार जीवदया रत्न –
डॉ रेणुका देसाई, मुम्बई, महाराष्ट्र (नैचरो पेथी उपचार के माध्यम से मानव सेवा के क्षेत्र में विशेष योगदान के साथ सक्रिय भूमिका में)

नवकार जीवदया रत्न – निकुंज गुरु जी, गुजरात (हीलिंग थेरेपी के साथ विभिन्न बीमारी एवं समस्याओं के समाधान कर मानवसेवा के क्षेत्र में विशेष योगदान)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.