केजरीवाल सरकार’ ने सदन में सर्वसम्मति से जीता विश्वास प्रस्ताव, विरोध में कोई मत नहीं

  • सीएम केजरीवाल बोले- ‘‘दिल्ली की चुनी हुई सरकार को गिराने की साजिश और ऑपरेशन लोटस हुआ फेल’’
    नई दिल्ली (ईएमएस)। आम आदमी पार्टी की सरकार ने सदन में आज ‘विश्वास प्रस्ताव’ पूर्ण बहुमत के साथ जीत लिया। सीएम अरविंद केजरीवाल द्वारा सदन में रखे विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 58 सदस्य रहे, जबकि विपक्ष और तथस्ट सदस्यों की संख्या शून्य रही। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली और देश के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि देश में कम से कम एक ऐसी कट्टर ईमानदार पार्टी है, जो न डरती है और न लालच के आधार पर उसको तोड़ा जा सकता है। तीन-चार हजार साल के मानव इतिहास में पूरी दुनिया में शायद आम आदमी पार्टी एक ऐसी पार्टी है, जिस पर सबसे ज्यादा केस हुए हैं। इन्होंने हमारे 49 विधायकों पर 169 केस किए, इसमें से 134 केस कोर्ट ने खत्म कर दिए हैं। इन्होंने जब से मनीष सिसोदिया के यहां रेड मारी है, तब से गुजरात में हमारा वोट शेयर 4 फीसद बढ़ गया है और जिस दिन उनको गिरफ्तार करेंगे, उस दिन 6 फीसद और बढ़ जाएगा। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज देश में राष्ट्रीय स्तर पर दो ही पार्टियां बची हैं, एक कट्टर ईमानदार, दूसरी कट्टर बेइमान। कट्टर ईमानदार पार्टी वो है, जिसके मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक और नेता सब ईमानदार हैं और कट्टर बेइमान पार्टी वो है, जिसमें रोज भ्रष्टाचार सुनने को मिलता है। मेरी इनसे दो मांग है। पहली, एमएलए खरीदना बंद कर पेट्रोल-डीजल के दाम कम किए जाएं और दूसरी, अपने दोस्तों के माफ कर्जे को रिकवर कर किसानों व स्टूडेंट्स के कर्जे माफ किए जाएं। मेरा एक ही सपना है कि इस देश ने जो शिक्षा मुझे और और मेरे बच्चों को दी है, वही शिक्षा मैं देश के हर बच्चे को दिलाउंगा। इनको जो करना है, कर लें।
  • मनीष सिसोदिया ने तो कभी इनको मानहानि की धमकी नहीं दी
    दिल्ली विधानसभा सत्र के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज ‘विश्वास प्रस्ताव’ पर सदन को संबोधित करते हुए कहा कि अभी कुछ दिन पहले इन लोगों ने मनीष सिसोदिया जी के खिलाफ पूरी मनगढ़ंत और झूठी एफआईआर दर्ज किया कि मनीष सिसोदिया जी शराब नीति में पैसे खा गए। हम लोग सार्वजनिक जीवन में हैं। सार्वजनिक जीवन में आदमी को किसी भी तरह की जांच पड़ताल के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए। मुझे बेहद खुशी है कि तुरंत मनीष जी ने बयान दिया कि मैं सब तरह की जांच के लिए तैयार हूं। सीबीआई और ईडी जो जांच करना चाहे, वो जांच कर ले। मनीष जी ने धमकी नहीं दी कि तुम्हारे उपर मानहानि का केस कर दूंगा। जब कुछ किया ही नहीं, तो कर जांच कर लो। आरोप लगा कि मनीष सिसोदिया जी शराब नीति में पैसे खा गए। वो पैसे ढूंढने के लिए सीबीआई उनके घर गई। सीबीआई ने 14 घंटे तक वो पैसा ढूंढा। सबकुछ देखा। गद्दे और तकिए तक फाड़े और दीवारों की भी जांच की। लेकिन उनको कुछ नहीं मिला और 14 घंटे की लंबी जांच के बाद वो चले गए। इसके अलावा, सीबीआई ने मनीष सिसोदिया जी से छह-सात घंटे तक गहन पूछताछ भी की। टीवी पर मैं देख रहा था कि ये लोग आरोप लगा रहे थे कि जवाब क्यों नहीं दे रहे? जबकि इन्होंने सारे जवाब दिए। सीबीआई वालों ने जितने प्रश्न पूछे, उनके सारे जवाब दिए और सीबीआई वाले पूरी तरह से संतुष्ट होकर इनके घर से गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.