कलेक्टर ने अनुपस्थित शिक्षकों को निलंबित करने, वेतन वृद्धि रोकने और वेतन काटने के निर्देश दिए


डिण्डोरी – कलेक्टर श्री रत्नाकर झा ने जिले में स्कूलों का संचालन बेहतर ढंग से करने के निर्देश दिए हैं। स्कूलों में शिक्षक-शिक्षिकाएं और छात्र-छात्राएं रोजाना उपस्थिति रहेंगे। उन्हें कक्षाओं का पाठ्यक्रम समय-सीमा में पूरा करना होगा। उन्हांने मध्यान्ह भोजन का वितरण मेनू के आधार पर तथा छात्र-छात्राओं को जाति प्रमाण पत्र का वितरण करने को कहा। उन्होंने जाति प्रमाण पत्र वितरण के लिए एक रजिस्टर पंजी संधारित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री झा गुरूवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित शिक्षा विभाग की बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर जिला समन्वयक सर्व शिक्षा अभियान श्री राघवेन्द्र मिश्रा सहित बीआरसी एवं उपयंत्री मौजूद थे। कलेक्टर श्री झा ने कहा कि विभागीय अधिकारी स्कूलों की नियमित रूप से मॉनीटरिंग करें। स्कूलों में अनुपस्थित शिक्षक/शिक्षिकाओं को निलंबित करें, वेतनवृद्धि रोकने या वेतन काटने की कार्रवाई करें। शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए पाठ्यक्रम के अनुसार अध्यापन कार्य समय में पूरा करें। उन्होंने स्कूलों के भ्रमण के दौरान मध्यान्ह भोजन वितरण की भी समीक्षा की। कलेक्टर श्री झा ने स्कूलो के लिए आवंटित होने वाले खाद्यान्न का उठाव नियमित रूप से करने को कहा। स्कूलों में संचालित योजनाओं और गतिविधियों में आ रही समस्याओं के संबंध में जानकारी ली। उन्हांने विभागीय अधिकारियों को स्कूलों का भ्रमण कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। जिला समन्वयक सर्व शिक्षा अभियान श्री राघवेन्द्र मिश्रा ने स्कूलों में शिक्षक-शिक्षिकाओं और छात्र-छात्राओं की उपस्थिति की रिपोर्ट रोजाना भेजने के निर्देश दिए। जिससे स्कूलों में अनुपस्थित रहने वाले शिक्षक-शिक्षिकाओं के विरूद्ध कार्रवाई की जा सके। उन्होंने स्कूलो के निरीक्षण के दौरान रसोई घर, शौचालय, स्कूल भवन, पेयजल की स्थिति तथा मेनू आधार पर मध्यान्ह भोजन वितरण का भी निरीक्षण करने के निर्देश दिए। स्कूलों में मूंगदाल का विरतण पाठ्य पुस्तकों का वितरण तथा खाद्य वितरण के संबंध में जानकारी ली। जिला समन्वयक श्री मिश्रा ने उपयंत्रियों को मुख्यालय में रहने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि उपयंत्री नियमित रूप से बीआरसी कार्यालय में उपस्थित होकर उपस्थिति पंजी में हस्ताक्षर करेंगे। उपस्थिति पंजी में हस्ताक्षर करने के बाद फील्ड का भ्रमण करेंगे। उपयंत्रियों को भ्रमण रिपोर्ट रोजाना प्रस्तुत करनी होगी। इसी आधार पर उपयंत्रियों का वेतन आहरण किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.