अशोक गहलोत आखिर किसके लिए अच्छे, कांग्रेस या…जो उन्हें अध्यक्ष बनाना चाहते हैं : अमरिंदर सिंह


नई दिल्ली । पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पहले कांग्रेस का साथ छोड़ा और फिर अपनी पार्टी बनाई लेकिन कुछ सफलता न मिलने के बाद अंतत: उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थामने के दो दिन बाद ही कांग्रेस पर निशाना साधा है। मीडिया से चर्चा में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की जरूरत पर सवाल उठाया और कहा कि इससे न तो कांग्रेस को मदद मिलेगी और न राहुल गांधी को। कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अशोक गहलोत की दावेदारी की खबरों पर उन्होंने कहा कि अगर गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष बन भी जाएंगे, तब भी पार्टी कौन चलाएगा, ये सभी जानते हैं।
कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की आवश्यकता पर सवाल उठाते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘पहली बात कि आपको ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की जरूरत क्यों है? भारत पहले से ही मजबूती से एकजुट है और मजबूती से आगे बढ़ रहा है। हां, आपको कांग्रेस को एकजुट करने की आवश्यकता हो सकती है और इसके लिए आपको इस यात्रा का उचित नाम देना चाहिए था। तब जाकर शायद इससे मदद मिलती।’ बता दें कि अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, किरेन रिजिजू, सुनील जाखड़ और पंजाब यूनिट के मुखिया अश्विनी शर्मा की उपस्थिति में भारतीय जनता पार्टी का दामन थामा था। इस दौरान कैप्टन ने अपनी पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस का भाजपा में विलय भी कर लिया था। एक मीडिया चर्चा में ‘पंजाब और किसानों के हित को बेच दिया’ कांग्रेस की इस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए कि अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘क्या मुझे उनसे प्रमाण पत्र की आवश्यकता है? सामान्य तौर पर पंजाब के लोग और विशेष रूप से किसान, मेरी साख को जानते हैं। मैं तीन कृषि कानूनों का विरोध करने और किसानों के विरोध का समर्थन करने वाले पहले लोगों में से था। भले ही मुझ पर कुछ भी आरोप लगाया जा सकता है, मगर निश्चित रूप से पंजाब और पंजाबियों के हितों से समझौता करने का आरोप नहीं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.