किसान पुत्र

विश्व मलेरिया दिवस 2022: मलेरिया होने पर मरीज को क्या खिलाएं और क्या नहीं, पढ़ें यहां


Diet tips in Malaria: आज यानी 25 अप्रैल को पूरी दुनिया में ‘विश्व मलेरिया दिवस’ (World Malaria Day 2022) मनाया जा रहा है. मलेरिया मादा मच्छर एनोफेलीज के काटने से होता है. मलेरिया का इलाज समय पर शुरू कर दिया जाए, तो मरीज 2 से 5 दिनों के अंदर ठीक हो सकता है. मलेरिया के लक्षणों की बात करें, इसमें व्यक्ति को बहुत तेज बुखार, सिर और बदन दर्द, मांसपेशियों में दर्द, ठंड लगना, कपकपी, थकान, बेचैनी महसूस होना, उल्टी आना, रात में पसीना आना, कई बार डायरिया की समस्या भी हो सकती है. सामान्य मलेरिया होने पर व्यक्ति जल्दी रिकवर कर लेता है. वहीं, गंभीर रूप से मलेरिया होने पर मरीज को हॉस्पिटल में भर्ती होने की जरूरत पड़ती है. मलेरिया में दवाओं के साथ ही अगर खानपान सही रखा जाए, तो शरीर को ताकत मिलती है. मरीज जल्दी स्वस्थ हो सकता है. ऐसे में आइए जानते हैं, मलेरिया में क्या खाना (Malaria Diet) चाहिए और किन खाद्य पदार्थों से परहेज करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें: World Malaria Day 2022: फाल्सीपेरम मलेरिया है सबसे खतरनाक, इलाज में देरी से जा सकती है जान, ये हैं लक्षण

मलेरिया में क्या खाएं

संतुलित आहार है जरूरी
इंडियन स्पाइनल इंजरीज (वसंत कुंज, नई दिल्ली) की सीनियर डाइटिशियन कम एफएसटीएल हिमांशी शर्मा कहती हैं कि आपका खानपान जितना पौष्टिक और स्वास्थ्यवर्धक होगा, मलेरिया से जल्द ठीक होने की संभावना भी उतनी ही अधिक बढ़ जाती है. खानपान में मरीज को संतुलित आहार देना चाहिए. संतुलित आहार में अनाज, दालें, सब्जियां, फल, तरल पदार्थ खाने के लिए दें. ये सभी आवश्यक न्यूट्रिएंट्स से भरपूर होते हैं, साथ ही शरीर में फ्लूड बैलेंस को बनाए रखते हैं.

मरीज को हाइड्रेटेड रखें
मरीज को हाइड्रेट रखना बहुत जरूरी है. नारियल पानी, नींबू पानी, छाछ, लस्सी, सूप, दाल का सूप, सेब का जूस, एलेक्टोरल वाटर आदि तरल पदार्थों का खूब सेवन कराएं.

हेल्दी प्रोटीन शामिल करें
मलेरिया से ग्रस्त मरीज को पर्याप्त मात्रा में हेल्दी प्रोटीन युक्त चीजें खाने के लिए दें. इसमें हल्की दालें, चिकन और फिश स्ट्यिू, चिकन सूप, स्किम्ड मिल्क और इससे बने पदार्थ खिलाएं.

इसे भी पढ़ें: जानें किन लोगों को मच्छर काटते हैं ज्यादा और क्या है इसकी वजह

खट्टे फल खिलाएं
फल खिलाने से व्यक्ति की इम्यूनिटी मजबूत होगी, इसके लिए खट्टे फलों जैसे नींबू, संतरा, अंगूर, कीवी आदि खाने के लिए दें.

लो फाइबर फूड्स दें
प्रारंभिक अवस्था में कम फाइबर वाले आहार को शामिल करना चाहिए जैसे खिचड़ी, हल्की मूंग दाल के साथ उबले हुए नर्म चावल, दलिया आदि खिलाएं.

मलेरिया में क्या न खाएं
हिमांशी शर्मा कहती हैं कि अधिक मात्रा में फाइबर युक्त आहार, तले हुए खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि इससे मतली, उल्टी और गैस्ट्रिक की समस्या उत्पन्न हो सकती है. डिब्बाबंद और प्रसंस्कृत भोजन जैसे बाहरी खाद्य पदार्थों को बिल्कुल खाने के लिए ना दें. घर का बना हुआ खाना ही मरीज को खिलाएं. भोजन बनाते समय अधिक तेल-मसाले के प्रयोग से बचना चाहिए. मलेरिया होने पर कब और क्या कितनी मात्रा में खिलाना चाहिए, इस बारे में आप डॉक्टर और आहार विशेषज्ञ से सलाह ले सकते हैं. यदि इन बातों को खानपान में सही तरीके से फॉलो किया जाए, तो मरीज जल्दी रिकवर कर सकता है. उसकी शारीरिक कमजोरी भी दूर हो सकती है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: