किसान पुत्र

IPL 2022: उमरान मलिक मैदान पर नहीं रहते थे अनुशासित, कोच को डांट तक लगानी पड़ी


नई दिल्ली. आम दिनों की तरह 2017 में सर्दियों के मौसम में कोच रणधीर सिंह मन्हास जम्मू के नवाबाद इलाके में मौलाना आजाद स्टेडियम पर खिलाड़ियों को अभ्यास कराने में जुटे थे कि एक 17 साल का लड़का उनके करीब आया. उसने कहा कि सर क्या आप मुझे गेंद डालने देंगे. मन्हास को अच्छी तरह से याद है कि उस समय स्टेट की सीनियर टीम के बल्लेबाज जतिन वाधवान क्रीज पर थे. कोच ने लड़के से नाम पूछा और उसने जवाब दिया, ‘उमरान मलिक.’ मन्हास ने उस लड़के का अनुरोध मान लिया और उन्हें आज तक समझ में नहीं आया कि वह कैसे राजी हुए. उस समय नेट पर उन्हें एक गेंदबाज की जरूरत थी. हालांकि शुरुआत में खेल के प्रति गंभीर नहीं होने के कारण उमरान (Umran Malik) को कोच से डांट तक खानी पड़ी.

रणधीर सिंह मन्हास ने ही उमरान मलिक के सपनों को पूरा करने में अहम रोल निभाया. भारतीय क्रिकेट के इतिहास का सबसे तेज गेंदबाजों से एक उमरान मलिक ने आईपीएल 2022 (IPL 2022) के 8 मैच में 15 विकेट झटके हैं. उन्होंने गुजरात टाइटंस के खिलाफ 5 विकेट लिए. इतना ही उन्होंने 4 बल्लेबाजाें को बोल्ड भी किया. उन्होंने टी20 करियर में पहली बार 5 विकेट झटके. जम्मू जिला क्रिकेट परिषद के कोच मन्हास ने कहा कि जतिन के लिए उसकी गेंदें बहुत तेज थी. मुझे लगा कि वह लड़का खास है और टीम के सीनियर तेज गेंदबाज रामदयाल को भी ऐसा ही लगा. राम ने कहा कि इस लड़के का भविष्य उज्ज्वल है.

हर मैच से पैसे कमाता था

उमरान मलिक को 17 वर्ष की उम्र तक कोई कोचिंग नहीं मिली और ना ही कभी वह चमड़े की गेंद से खेला था. वह मोहल्ला टेनिस बॉल टूर्नामेंट खेलता था, जिससे 500 से 3000 रुपए प्रति मैच तक मिलते थे. जम्मू के गुज्जर नगर के मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे उमरान के पिता की स्थानीय बाजार में फलों की दुकान है. वह चाहते थे कि बेटा अच्छी तालीम हासिल करे, लेकिन बाद में उन्होंने उसे क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित किया.

उधार का जूता मांगकर ट्रायल देने गया

उमरान मलिक को एकेडमी में नाम लिखवाने के लिए कहा गया, लेकिन मन्हास को याद है कि 2017-18 में वह कभी नियमित नहीं आता था. उन्होंने पीटीआई से बात करते हुए कहा कि वह एक दिन आता और अगले कई दिन नदारद. हमें उसे कहना पड़ा कि उसे अभ्यास में अनुशासित होना पड़ेगा. मैंने उससे कहा कि जिस दिन तुम देश के लिए खेलोगे, उस दिन पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ेगा. गंभीर होने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि मैंने उसे अंडर-19 ट्रायल के लिए भेजा, जिसमें उसने उधार के जूते मांगकर गेंदबाजी की. उसे कूच बिहार ट्रॉफी में चुना गया, लेकिन एक ही मैच मिला और ओडिशा के खिलाफ उस मैच में बारिश आ गई.

जिम जाने का नहीं मिला मौका

सनराइजर्स हैदराबाद का हिस्सा बनने से पहले उमरान कभी व्यवस्थित तरीके से जिम नहीं गया, लेकिन उसका शरीर काफी मजबूत है. मन्हास ने कहा कि वह तवी नदी के पास रहता है और नदी के किनारे की जमीन बालू वाली है. उमरान उसी पर दौड़कर बड़ा हुआ और शुरू में वहीं क्रिकेट खेली. इससे उसके शरीर का निचला हिस्सा मजबूत हो गया. जम्मू-कश्मीर क्रिकेट टीम में कश्मीरी खिलाड़ियों का दबदबा था, लेकिन उमरान की मदद उनके ही साथी खिलाड़ी अब्दुल समद ने की जो खुद भी सनराइजर्स टीम का हिस्सा हैं.

IPL 2022: राहुल तेवतिया ने कप्तान हार्दिक पंड्या पर उठाए सवाल, कहा- हर बार… VIDEO

समद ने उसकी गेंदबाजी के वीडियो वीवीएस लक्ष्मण और टॉम मूडी को जून 2020 में भेजे. उस समय पहले लॉकडाउन के बाद कुछ ही लोग अभ्यास कर रहे थे. सनराइजर्स को उसके वीडियो पसंद आए और इस तरह टीम में उसके प्रवेश की राह बनी. पिछले सीजन में टी नटराजन के चोटिल होने के बाद उमरान को हैदराबाद की ओर से खेलने का मौका मिला था.

Tags: IPL, IPL 2022, Sunrisers Hyderabad, Umran Malik



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: