किसान पुत्र

नाखून की चोट को ऐसे पहचानें और इस तरह से करें घरेलू उपचार


Nail injury solutions: वैसे तो नाखूनों को शरीर के स्ट्रॉन्ग पार्ट में गिना जाता है, लेकिन कई बार नाखून में लगी छोटी सी खरोंच भी असहनीय बन जाती है. नाखून की चोट ज्यादातर अंजाने में ही लगती है. कहीं ठोकर लगने से लेकर गलती से कट लग जाने तक, कई बार हम नाखूनों की चोट को पहचानने में देर कर देते हैं, जिससे परेशानी और बढ़ जाती है. ऐसे में नाखून की चोट को तुरंत पहचान कर उसका सही उपचार करना बेहद जरूरी होता है.

दरअसल, नाखून में कट लगने से ब्लीडिंग के चलते हमे चोट का फौरन पता चल जाता है, लेकिन कई बार नाखूनों में कुछ अंदरूनी चोटें और घाव भी बन जाते हैं, जिनका समय पर उपचार न करना काफी घातक साबित हो सकता है. हालांकि, अगर आप चाहें तो, नाखून की चोट के लक्षणों को पहचान कर कुछ घरेलू उपचारों की मदद से चोट को गंभीर होने से रोक सकते हैं.

ऐसे पहचाने नाखून की अंदरूनी चोट
नाखून में अंदरूनी चोट लगने के कुछ आम लक्षण होते हैं, जिसे पहचानकर आप तुरंत इसका इलाज कर सकते हैं. मसलन नाखूनों का नीला पड़ जाना, नाखूनों में दर्द, नाखून फटना या त्वचा से अलग होना और नाखूनों पर धारियां बनने जैसे लक्षण नाखून में अंदरूनी चोटों के संकेत देते हैं. साथ ही नाखूनों के आस-पास फ्रैक्चर होने के कारण भी नाखूनों में दर्द उत्पन्न हो जाता है. आइए अब जानते हैं कैसे करें नाखूनों की चोट का इलाज.

ये भी पढ़ें: नाखूनों के आसपास से निकलती है स्किन तो ये घरेलू तरीके देंगे राहत

डॉक्टर से लें सलाह
नाखूनों की चोट को छोटी-मोटी चोट समझकर नजरअंदाज करने की भूल न करें. खासकर नाखूनों में घाव होने पर सबसे पहले डॉक्टर के पास जाकर घाव को डिसइंफ्टेंट कराएं और डॉक्टर की सलाह लें.

कट लगने का उपाय
नाखूनों पर कट लगने के बाद चोट या घाव पर तुरंत मरहम लगाना जरूरी होता है. इसके लिए सबसे पहले कॉटन की मदद से घाव को साफ करें. फिर इस पर एंटीसेप्टिक दवा लगाएं. इससे आपकी ब्लीडिंग भी बंद हो जाएगी और दर्द भी कम होने लगेगा.

ये भी पढ़ें: Nail Care Tips: ये 5 चीजें आपके पीले और बेजान नाखूनों को चुटकियों में बनाएंगी शाइनी एंड पिंक

अंदरूनी चोट ठीक करने का तरीका 
नाखून में अंदरूनी चोट लगने पर अक्सर खून जम जाता है. जिसके कारण नाखून नीले पड़ने लगते हैं और इनमें दर्द भी काफी होता है. ऐसे में आप नाखूनों पर आइस पैक लगा सकते हैं. लगभग 15-20 मिनट तक आइस पैक लगाने के बाद इस पर एंटीसेप्टिक दवा अप्लाई करने से आपको जल्द राहत मिलने लगेगी.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: