किसान पुत्र

तीर्थंकर महावीर का जन्म सृष्टि के कल्याण व मंगल की चरम भावना:- जिनमणिप्रभसूरीश्वर


परमात्मा का दीक्षा कल्याणक वरघोड़ा आज

जंगल में मंगल के साथ महोत्सव परवान पर, प्रतिष्ठा 08 मई को,

बाड़मेर । जैन श्रीसंघ, बाड़मेर एवं श्री भगवान महावीर जिन मन्दिर प्रतिष्ठा महोत्सव समिति की ओर से 04 मई से 09 मई तक लंगेरा रोड़ स्थित महावीर वाटिका के पावन प्रांगण में अंवति तीर्थाेद्धारक, खरतरगच्छाधिपति परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी मसा, वर्षीतप के तपस्वी रत्न, परम पूज्य आचार्य भगवन्त गुरूदेवश्री कवीन्द्रसागर सूरीश्वरजी मसा व बह्रमसर तीर्थाेद्धारक परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमनोज्ञसूरीश्वरजी मसा आदि ठाणा की पावन व मंगलमय निश्रा में भव्यातिभव्य कार्यक्रमों व अनुष्ठानों के क्रम में महोत्सव के तीसरे दिन शुक्रवार कई मांगलिक कार्यक्रम आयोजित हुए ।

जैन श्रीसंघ, बाड़मेर के अध्यक्ष व महोत्स्व समिति के संयोजक प्रकाशचन्द वडेरा ने बताया कि महावीर वाटिका में बने नूतन जिनालय की प्रतिष्ठा को लेकर महावीर वाटिका के प्रांगण में साधु-साध्वी भगवन्तों की पावन निश्रा में भव्य व रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है । जिसमें 06 मई शुक्रवार को प्रातः 06 बजे परमात्मा के 18 अभिषेक, ध्वजदंड कलशादि अभिषेक, प्रातः 9 बजे प्रियवंदा दासी द्वारा जन्म बधाई, नाम स्थापना, पाठशाला गमन, परमात्मा का विवाह, मामेरा, राज्याभिषेक, नवलोकान्तिक देवों का आगमन तथा प्रार्थना, दोपहर में शान्तिनाथ पंचकल्याणक पूजा आदि का आयोजन हुआ । जिसमें हजारों की संख्या में जैन बन्धुओं, माताओं-बहिनों ने भाग लिया ।

खरतरगच्छाधिपति परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी मसा ने कहा कि तीर्थंकर महावीर का वर्द्धमान के रूप में जन्म सम्पूर्ण सृष्टि के लिए कल्याणकारी और मंगलकारी सुखद घटना का अप्रतीम उदाहरण रहै । परमात्मा का जन्म सभी जीवों को सुख-साता पहुंचाने वाला है । गुरूदेवश्री ने कहा कि भगवान महावीर का इस दुनिया पर कई सिद्धान्तों के मामले में बहुत बड़ा उपकार है । महावीर ने दुनिया को अहिंसा जैसे पंच महाव्रतों का पथ बताकर जीवन जीने की कला सिखाई है ।

महोत्सव समिति के सह-संयोजक सम्पतराज मेहता व मांगीलाल गोलेच्छा ने बताया कि महोत्सव के तीसरे दिन महावीर वाटिका के गौतमनगर में प्रातः में श्रद्धेय आसुलालजी मालू मेहता परिवार की ओर से नवकारसी की आयोजन हुआ । वहीं दोपहर में मूलचन्दोणी सिंघवीं परिवार बिशाला बाड़मेर वालों की तरफ से संघ स्वामी-वात्सल्य तथा सूर्यास्त पूर्व शाम को खेतमलजी पारख परिवार हरसाणी बाड़मेर की ओर से संघ स्वामी-वात्सल्य का आयोजन हुआ । जिसमें बड़ी संख्या में श्रावक-श्राविकाओं ने भाग लिया ।

जैन श्रीसंघ, बाड़मेर के उपाध्यक्ष बाबुलाल मालू व महामंत्री पारसमल छाजेड़ ने बताया कि आगामी 04 मई से महावीर वाटिका लंगेरा रोड़ के पावन प्रांगण में हो रहे भव्य व ऐतिहासिक कार्यकमों की कड़ी प्रतिदिन महापूजन, भक्ति भावना, संघ स्वामी-वात्सल्य सहित कई कार्यक्रमों व अनुष्ठानों का आयोजन हो रहा है । संघ स्वामी-वात्सल्य के लाभार्थी परिवारों को हाथी के ओहदे पर बिठाकर सकल संघ के साथ वरघोड़ा आयोजित हो रहा है । वहीं प्रतिदिन रात्रि में भक्ति संध्या का आयोजन किया जा रहा है ।

परमात्मा महावीर की प्रतिष्ठा 08 मई को

जैन श्रीसंघ के अध्यक्ष व महोत्सव संयोजक प्रकाशचन्द वडेरा एडवोकेट ने बताया कि महावीर वाटिका में भगवान महावीर स्वामी के नूतन जिनालय की प्रतिष्ठा 08 मई को चतुर्विघ संघ की उपस्थिति में सम्पन्न होगी । वहीं 09 मई को प्रातः द्वारोद्घाटन सकल श्रीसंघ की उपस्थिति में होगा ।

सच्चा दोस्त न्यूज़ को आप हिंदी के अतिरिक्त आप अब सच्चा दोस्त न्यूज़ को इंग्लिश, तेलुगु, मराठी, बांग्ला, गुजरती एवं पंजाबी भाषाओँ में भी खबर पढ़ सकते है अन्य भाषाओँ में खबर पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें
सच्चा दोस्त बातम्या
https://sachchadost.in/marathi/
సచ్చా దోస్త్ వార్తలు
https://sachchadost.in/telugu/
સચ્ચા દોસ્ત સમાચાર
https://sachchadost.in/gujarati/
সাচ্চা দোস্ত নিউজ
https://sachchadost.in/bangla/
ਸੱਚਾ ਦੋਸਤ ਨ੍ਯੂਸ
https://sachchadost.in/punjabi/



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: