किसान पुत्र

Podcast: आईपीएल प्‍लेऑफ की दौड़ से बाहर हुईं 2 टीमें, इन 7 टीमों के बीच अभी जारी है कश्‍मकश – sports podcast 2 teams out of race for ipl playoffs tussle continues between 7 teams nodakm


आईपीएल के निर्णायक दौर का शायद यह दबाव ही है कि बीता सप्ताह कप्तानों के लिए निराश करने वाला रहा. कोई भी कप्तान बल्ले या गेंद से कुछ खास नहीं कर पाया. उधर, केकेआर के पूर्व कप्तान अब आरसीबी के दिनेश कार्तिक ‘फिनिशर’ माने जाने लगे हैं. पिछले दो मैचों में भी उन्होंने इस काम को बखूबी अंजाम दिया है. आक्रामक 26 और 30 रन की पारी खेलकर उन्होंने टीम की जीत सुनिश्चित की. यहां दिलचस्प है कि प्‍लेऑफ में पहुँचने वाली पहली टीम का फैसला टॉप पर कायम लीग की दो नई टीमों के बीच हुए मुकाबले से हुआ है.


सप्ताह भर की क्रिकेट सुर्खियों को समेटे, आपकी खिदमत मे हम फिर हाजिर हैं, स्वीकार कीजिए संजय बैनर्जी का नमस्कार. -सुनो दिल से

आईपीएल, अनिश्चितता और रोमांच तीनों हमेशा एक साथ दिखाई देते हैं. इस लीग की लोकप्रियता की संभवतः यही सबसे बड़ी वजह भी है. कल रात तक दो टीमों को छोड़कर बाकी टीमों ने 14 में से 12-12 मैच खेल लिए हैं, लेकिन अभी तक केवल एक टीम ही प्‍लेऑफ में पहुंची ही और दो औपचारिक रूप से बाहर हुई हैं. यानि बाकी सात टीमों के बीच अब भी कश्‍मकश का दौर है, किसी की संभावनाए मजबूत हैं, तो कोई बस नाम के लिए प्लेऑफ की दौड़ मे अब भी कायम है. गुजरात टाइटंस पहली ऐसी टीम बनी जो प्‍लेऑफ में पहुंची है, जबकि मुंबई इंडियंस के बाद चेन्नई भी कल रात औपचारिक तौर पर बाहर हो चुकी है. हालांकि अगले एक दो दिन मे उन तीन और टीमों के नाम हमारे सामने होंगे, जो इस बार प्लेऑफ खेलने वाली हैं.

आईपीएल के निर्णायक दौर का शायद यह दबाव ही है कि बीता सप्ताह कप्तानों के लिए निराश करने वाला रहा. कोई भी कप्तान बल्ले या गेंद से कुछ खास नहीं कर पाया. आज जब आईपीएल के 60वें मैच में रॉयल चैलेंजर्स बंगलुरु का सामना पंजाब किंग्स से होगा. आरसीबी जीता तो वह प्लेऑफ मे पहुँच जाएगा. साथ ही, लखनऊ सुपर जाएंट्स भी टॉप फॉर मे पहुँच जाएगी. बाकी बची एक जगह राजस्थान रॉयल्स या दिल्ली कैपिटल्स मे से किसी के नाम जा सकती है. बंगलुरु ने पिछले मैच में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ बड़े अंतर से जीत हासिल की थी, जबकि पंजाब को राजस्थान से हार का सामना करना पड़ा था. कुल मिलाकर आज का मैच लीग मे नंबर दो और तीन टीमों की किस्मत तय कर सकता है. पंजाब और कोलकाता की स्थिति कमजोर है, हैदराबाद के लिए मौके हैं पर काम एवरेस्ट पर चढ़ने की तरह मुश्किल है.

पिछली रात दो पूर्व विजेता चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस सम्मान के साथ रुखसती की लड़ाई लड़ रहे थे. इस मैच मे मुंबई ने चेन्नई को आसानी से पांच विकेट से हराकर लीग की सबसे लोकप्रिय टीम की थोड़ी और मिट्टी पलीद कर दी. मुंबई ने गत विजेता को हराकर अपनी पिछली हार का बदला लिया. मजे की बात है कि चेन्नई की पारी उसने केवल 97 रन पर समेट दी. हालांकि एमएस धोनी ने अपनी तरफ से स्कोर को आगे ले जाने की काफी कोशिश की, पर वह बेकार रही. मैच में मुंबई के तिलक वर्मा ने फिर साबित किया कि वह आने वाले दिनों में भारतीय टीम मे शामिल होने के दावेदार हैं.

दिलचस्प है कि प्‍लेऑफ में पहुँचने वाली पहली टीम का फैसला टॉप पर कायम लीग की दो नई टीमों के बीच हुए मुकाबले से हुआ. गुजरात ने लखनऊ को 82 रन के बड़े अंतर से हराया था और उसी के आधार पर उसने अंतिम चार में जगह बनाई. पूरे सीजन में गुजरात की टीम सिर्फ एक राउंड को छोड़कर हमेशा टॉप पर रही. लखनऊ ने केकेआर को अपने 11वें मैच में हराया तब यह टीम एक बार बेहतर नेट रन रेट के आधार पर टॉप पर थी, लेकिन बाद में गुजरात ने फिर पहला स्थान हासिल कर लिया. आईपीएल के फॉरमेट में अंक तालिका में टॉप पर रहने वाली टीम को हमेशा एडवांटेज रहता है, क्योंकि प्‍लेऑफ का सिर्फ पहला मैच, यानि ‘क्वालीफायर एक’ जीतने पर टीम को सीधे फाइनल में जगह मिल जाती है. इसलिए गुजरात अगर यह पॉजिशन बनाये रखता है तो उसके लिए फायदे की बात होगी.

हार्दिक पंड्या इस बार अब तक के सबसे कामयाब कप्तान और भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा सबसे बेअसर कप्तान माने जा रहे हैं. ऐसा सिर्फ कप्तानी के पैमाने पर ही नहीं है, बल्कि व्यक्तिगत प्रदर्शन के मामले में भी है. इस मामले में फाफ डू प्लेसिस को छोड़कर इस सप्ताह लगभग सभी कप्तानों का प्रदर्शन निराश करने वाला रहा. डू प्लेसिस ने हैदराबाद के खिलाफ 67 रन की जीत में बेंगलुरू के लिए नाबाद 73 रन की पारी खेली थी. इसके विपरीत बाकी कप्तानों का इस सप्ताह परफोरमेंस कतई सराहनीय नहीं रहा. संजू सैमसन 23 रन से आगे नहीं बढ़ सके तो, मयंक अग्रवाल 15 पर अटक गये. श्रेयस अय्यर दोनों बार 6 के स्कोर पर थम गये तो रोहित शर्मा 2 और 18 तक सीमित रहे. हार्दिक पंड्या 11 रन बना सके तो लोकेश राहुल 0 और 8 रन ही जोड़ सके. केन विलियमसन शून्य के शिकार हुए तो एमएस धोनी 21 और 36 रन बना सके. जबकि ऋषभ पंत 21 और 13 रन के आंकड़े तक पहुंच सके. हार्दिक इस बार लीग के एकमात्र ‘गेंदबाज कप्तान’ हैं लेकिन लगातार पांच मैचों बॉलिंग नहीं करने के बाद पिछले मैच में केवल एक ओवर ही गेंदबाजी कर सके.

उधर केकेआर के पूर्व कप्तान अब आरसीबी के दिनेश कार्तिक ‘फिनिशर’ माने जाने लगे हैं. पिछले दो मैचों में भी उन्होंने इस काम को बखूबी अंजाम दिया है. आक्रामक 26 और 30 रन की पारी खेलकर उन्होंने टीम की जीत सुनिश्चित की.

युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल और शुभमन गिल ने अपने बल्ले का मुंह खोला जिससे उनकी टीम जीती. यशस्वी ने पंजाब के खिलाफ राजस्थान को 68 रन बनाकर जीत दिलाई तो शुभमन गिल ने लखनऊ के खिलाफ 63 रन बनाकर गुजरात को जीत दिलाने में बड़ा योगदान किया.

लखनऊ के क्विंटन डि कॉक, दिल्ली के डेविड वार्नर और मिचेल मार्श ने भी इस दौरान अर्धशतक जमाया. 30 साल के मार्श को हाल-फिलहाल ‘आउट डेटेट’ माना जा रहा था लेकिन उन्होंने राजस्थान के खिलाफ 89 रन की पारी खेलकर अपनी छाप छोडी. लेकिन अश्विन ने दिल्ली के खिलाफ 50 और padikkal ने 48 रन की पारी खेली लेकिन उनकी टीम जीत नहीं सकी. आंद्रे रसेल सबसे ज्यादा निराश होंगे, क्योंकि लखनऊ के खिलाफ केवल 17 गेंदों पर पांच छक्के की मदद से 45 रन बनाने के अलावा दो विकेट लेकर भी वह कोलकाता को हार से नहीं बचा सके. ईशान किशन ने भी आखिरकार दो लगातार अच्छी पारियां खेली, लेकिन आठ मैचों के बाद पहले अर्धशतक के बावजूद मुंबई इंडियंस की टीम हार गयी. कल भी ईशान केवल छह रन जोड़ सके.

जसप्रीत बुमराह के केकेआर के खिलाफ पांच विकेट लेने के शानदार प्रदर्शन के बावजूद मुंबई को कोलकाता के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था. अन्य गेंदबाजों में युजवेन्द्र चहल, आवेश खान, पैट कमिंस, जैसन होल्डर के अलावा राशिद खान और डेनियल सैम्स ने अच्छी गेंदबाजी की और अपनी टीम की जीत में योगदान दिया.

केकेआर के सुनील नारायण उन खिलाड़ियों में शामिल हो गये हैं जिन्होंने आईपीएल में 100 विकेट लेने के अलावा एक हजार रन भी बनाये हैं. लेकिन फिलहाल न तो उनका बल्ला चल रहा है और न ही गेंद.

इस बीच सूर्यकुमार यादव, रवींद्र जडेजा चोट के चलते और पृथ्वी शॉ बुखार की वजह से बाकी मैचों में नहीं खेल सकेंगे. जडेजा का मामला सिर्फ चोट का है या और कुछ कहना मुश्किल है क्योंकि नये घटनाक्रम के बाद जडेजा ने ‘इंस्टाग्राम’ पर सीएसके को फॉलो करना छोड़ दिया है.

आईपीएल से अलग- सितम्बर में आस्ट्रेलिया की टीम भारतीय दौरे पर आएगी और टी-20 मैचों की सीरीज खेलेगी. इसके बाद फिर फरवरी-मार्च में दोबारा आस्ट्रेलिया, भारत का दौरा करेगा और चार टेस्ट मैच भी खेलेगा.

उधर इंग्लिश काउंटी चैंपियनशिप में आईपीएल के धूम-धड़ाके से दूर चेतेश्वर पुजारा लगातार शतक पर शतक जड़े जा रहे हैं. ससेक्स के लिए खेल रहे पुजारा ने सभी चारों मैचों में शतक ठोके है. पिछले मैच में उन्होंने मिडिलसेक्स के खिलाफ दूसरी पारी में नाबाद 170 रन बनाये थे. लेकिन जिस मकसद से दोहरा शतक पूरा होने से पहले कप्तान ने पारी की घोषणा कर दी थी, वह पूरा नहीं हुआ और ससेक्स को सात विकेट से हार का सामना करना पड़ा.

पुजारा अब तक 717 से ज्यादा रन बना चुके हैं. अब लीसेस्टरशायर के खिलाफ चल रहे मैच में फिर उनको बड़ा स्कोर करने का मौका है. ससेक्स की बल्लेबाजी चल रही है और आज दूसरे दिन उनको बल्लेबाज़ी करते हुए देखा जा सकता है. उनके साथ पाकिस्तान के मोहम्मद रिजवान भी खेल रहे हैं लेकिन वह असफल चल रहे हैं. ताजा मैच में उनको अंतिम ग्यारह में जगह नहीं मिली है. पिछले मैच में पाकिस्तान के शाहीन शाह आफरीदी ने पुजारा के खिलाफ गेंदबाजी की थी, लेकिन 2021 के टी-20 वर्ल्ड कप से भारत को बाहर करने वाले इस गेंदबाज की पुजारा के सामने एक न चली.

पिछले कुछ महीनों में यह पहला मौका है जब भारतीय घरेलू क्रिकेट का कोई भी मैच नहीं खेला गया. अगले सप्ताह भी यही हाल रहेगा.

तो यह था, सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों पर आधारित हमारा पॉडकास्ट-सुनो दिल से. अगले शुक्रवार तक संजय बैनर्जी को अनुमति दीजिए, नमस्कार



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: