किसान पुत्र

युजवेंद्र की गेंद पर ऐसा क्या हुआ कि गुस्साए इरफान ने कर डाली नियम बदलने की मांग, बोले यह तो गलत है


नई दिल्ली. क्रिकेट हो या कोई और खेल, नियम बहुत सोच-समझकर बनाए जाते हैं. इसके बावजूद खेल में कई बार ऐसी स्थितियां सामने आ जाती हैं, जिनके सामने नियम (ICC Rules) लाचार हो जाते हैं. आईपीएल 2022 (IPL 2022) में भी ऐसा ही हुआ. राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली कैपिटल्स के इस मुकाबले में युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) की गेंद पर कुछ ऐसा हुआ कि कॉमेंटेटर इरफान पठान (Irfan Pathan) ने आईसीसी से नियम बदलने की मांग कर डाली. उन्होंने कहा कि यह गलत है और इसे सुधारने के लिए आईसीसी को आगे आना चाहिए.

राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली कैपिटल्स (Rajasthan Royals vs Delhi Capitals) का यह मुकाबला 11 मई को खेला गया. राजस्थान ने इस मुकाबले में पहले बैटिंग करते हुए 5 विकेट पर 160 रन का स्कोर बनाया. दिल्ली ने इसके जवाब में अच्छी शुरुआत की और जब उसने 8 ओवर में एक विकेट पर 56 रन बनाए थे, तब युजवेंद्र चहल गेंदबाजी करने आए. चहल ने इस ओवर में बल्लेबाजों को खूब छकाया और छठी गेंद तो विकेट पर भी जा लगी, लेकिन किस्मत के धनी डेविड वार्नर (David Warner) आउट होने से बच गए. इरफान पठान का कॉमेंट इसी गेंद पर आया.

गेंद स्टंप से टकराई, पर आउट नहीं हुए वार्नर
दरअसल, युजवेंद्र चहल की इस गेंद पर डेविड वार्नर पूरी तरह चकमा खा गए. गेंद स्टंप से टकराई और बेल्स की लाइट जल उठीं. हालांकि, खुशकिस्मत वार्नर आउट होने से बच गए क्योंकि बेल्स गिरी नहीं. इस पर इरफान पठान ने कहा कि यह गलत है. अगर बेल्स की लाइट जल उठे तो उसे आउट दिया जाना चाहिए. इरफान पठान ने कहा कि आईसीसी को इस बारे में अपने नियम बदलने चाहिए. पूर्व ऑलराउंडर ने अपनी बात के पक्ष में डीआरएस से लेकर रबाडा की तेज गेंद तक का उदाहरण दिया.

यह भी पढ़ें: IPL Playoffs: पंजाब किंग्स के लिए आसान है प्लेऑफ में पहुंचना, बस करना होगा यह काम

IPL Playoffs: बैंगलोर की जीत से एक नहीं 2 टीमों के सपने टूटेंगे! जानें कैसे बदलेगा प्लेऑफ का समीकरण

डीआरएस के फैसले में तो नहीं गिरतीं बेल्स…
इरफान पठान ने कहा कि जब एलबीडब्ल्यू के लिए डीआरएस लिया जाता है तो तकनीक यह नहीं बताती कि बेल्स गिरेंगी या नहीं. अगर रीव्यू में गेंद स्टंप से टकराती नजर आती है तो उसे आउट दिया जाता है. अगर डीआरएस के तहत इस प्रकार आउट दिया जा सकता है तो फिर जब गेंद सीधी स्टंप पर लग रही है और बेल्स की लाइट जल रही है तो फिर उसे नॉट आउट कैसे दिया जा सकता है. इरफान ने गेंद की स्पीड को भी समझाने की कोशिश की. उन्होंने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि युजवेंद्र की गेंद धीमी होने के कारण बेल्स नहीं गिरीं. हमने देखा है कि कैगिसो रबाडा की गेंद भी स्टंप से टकराईं और बेल्स नहीं गिरीं. ऐसे में यह स्पीड का मामला नहीं है.’

इरफान पठान की बात में है दम
क्रिकेटप्रेमी जानते हैं कि तकनीक के साथ खेल की सिर्फ बारीकियां नहीं बदली हैं, बल्कि इसके इक्विपमेंट भी बदले हैं. जैसे कि पहले जो बेल्स होती थीं, वह लकड़ी का होने के कारण हल्की होती थीं. इसलिए स्टंप पर गेंद लगने के बाद वह जल्दी गिर जाती हैं. तकनीक बदलने के साथ बेल्स में लाइट लगाई गईं. प्लास्टिक की ये बेल्स इस कारण वजनी हो गईं और अक्सर ऐसा होता है कि गेंद के स्टंप लगने के बाद यह या तो देर से गिरती हैं या कई बार गिरती ही नहीं हैं. जैसा कि चहल की गेंद पर हुआ. ऐसे में इरफान का डीआरएस के तहत एलबीडब्ल्यू डिसीजन वाला तर्क ठीक लगता है.

Tags: ICC Rules, IPL, IPL 2022, Irfan pathan, Rajasthan Royals, Yuzvendra Chahal



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: